Breaking News
Home / अंतरराष्ट्रीय समाचार / India / वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये अपने लोगों से मिले राज्यपाल मुखी
2. वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये अपने लोगों से मिले राज्यपाल मुखी

वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये अपने लोगों से मिले राज्यपाल मुखी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की डिजिटल इंडिया योजना पार्टी के नेताओं के बीच भी काफी लोकप्रिय हो चुकी है। असम के राज्यपाल प्रो. जगदीश मुखी डिजिटल तकनीक का बखूबी इस्तेमाल करके अपने लोगों से लगातार संपर्क में बने हुए हैं। शनिवार को अपने जन्मदिन के मौके पर प्रो. मुखी ने वीडियो कांफ्रेंस के जरिये अपने परिवार और चाहने वालों के बीच अपनी मौजूदगी का अहसास करवाया।

1. वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये अपने लोगों से मिले राज्यपाल मुखी        जनकपुरी स्थित निवास पर प्रोफेसर मुखी के परिवारिक सदस्यों और समर्थकों ने राज्यपाल की दीर्घायु के लिए हवन का आयोजन किया था। इस मौके पर दिल्ली बीजेपी के कई वरिष्ठ नेताओं, निगम पार्षदों, संघ के पदाधिकारियों और पश्चिमी जिला बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने प्रो. जगदीश मुखी के घर पहुंच कर  वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए जन्मदिन की शुभकामनाएं दी। गुवाहाटी राजभवन से प्रोफेसर जगदीश मुखी और उनकी धर्मपत्नी एवं असम की प्रथम महिला श्रीमती प्रेम मुखी वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से सबसे मुखातिब हुए।

प्रोफेसर मुखी ने जन्मदिन की शुभकामनाओं के लिए सभी का आभार जताया और उपस्थित लोगों से राष्ट्र की उन्नति के लिए एकजुटता के साथ काम करने का आव्हान किया। वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से लोगों को संबोधित करते हुए राज्यपाल जगदीश मुखी ने कहा कि डिजिटल तकनीक के माध्यम से हर समय खुद को दिल्ली और जनकपुरी के लोगों से जुड़ाव महसूस करते हैं। प्रो. मुखी ने बताया कि असम पूर्वोत्तर भारत का सबसे महत्वपूर्ण राज्य है। जहां सरकार निरंतर विकास के कामों को अंजाम दे रही है। उन्होंने कहा कि जीवन में ईमानदारी के साथ काम करने वाले लोगों को समाज में अहम जगह मिलती है। लिहाजा राष्ट्र की सेवा के लिए हर व्यक्ति को ईमानदारी के साथ काम करना चाहिए। इस अवसर पर उनके पुत्र अतुल मुखी (पश्चिमी जिला बीजेपी के उपाध्यक्ष) और पश्चिमी जिला अध्यक्ष रमेश खन्ना ने सभी लोगों को मिठाई खिलाकर खुशी जताई।

Check Also

freedom1

व्यक्तिगत आजादी के मामले में नेपाल ने भारत व चीन दोनों को पीछे छोड़ा

निर्भय कर्ण : ग्लोबल लीग टेबल ने विश्व के व्यक्तिगत आजादी से संबंधित देशों की ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *